स्तनपायी प्राणियों की दीर्घा

स्तनपायी प्राणियों की दीर्घा

भारतीय संग्रहालय में जीवजन्तुओं की दीर्घा (जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के अधीन) १८ ७८ में मुख्य रूप से शिक्षण और संरक्षण के उद्देश्यों से स्थापित की गई थीं। हाल ही में पुनर्निर्मित इस दीर्घा में भारत और दुनिया भर से चर्मपूरित अद्वितीय स्तनधारियों का एक विशाल संग्रह है। कुल ३१४ प्रदर्शित जन्तु हैं, जिनमें से कुछ १००  साल से अधिक पुराने हैं। संग्रह में हैं चर्मपूरित जानवर, सींग,  बारहसिंगे  के सींग, कंकाल,शिकार किए हुए पशुओं के सिर और खोपड़ी।

दीर्घा में देखें

संग्रहालय का संग्रह

संग्रहालय के बारे में

1814 में एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल (वर्तमान में 1 पार्क स्ट्रीट पर स्थित एशियाटिक सोसाइटी की इमारत) द्वारा स्थापित भारतीय संग्रहालय सबसे पहला और केवल भारतीय उपमहाद्वीप में ही नहीं बल्कि विश्व के एशिया प्रशांत क्षेत्र का सबसे बड़ा बहुप्रयोजन संग्रहालय है।

हमारे साथ जुड़ें

Visits

212954